Pay using Debit/Credit card or net banking. Our International services coming soon..

                                                    श्री मनोरमा गोलोकतीर्थ, नन्दगाँव 

 

- श्री पथमेड़ा गोधाम महातीर्थ द्वारा स्थापित बहुद्देश्यीय गोसेवा प्रकल्प श्री मनोरमा गोलोकतीर्थ, नन्दगाँव की स्थापना एवं प्रस्तावित       योजना

           श्री पथमेड़ा गोधाम के बहुद्देश्य गोसेवा प्रकल्पों की क्रिन्यावित हेतु श्रीसुरभि गोमाता की पावन प्रेरणा से अर्बुदांचल की पर्वत श्रृंखलाओं के मध्य राजस्थान प्रदेश के सिरोही तहसील के रायपुर ग्राम पंचायत के केसुआ ग्राम की एक विशिष्ठ गोभक्त द्वारा 300 विधा भूमि भेंट की गईं थी । इसी भूमि पर 2005 में श्रध्देय स्वामीजी महाराज के दो माह का चातुर्मास सम्पन्न हुआ । चातुर्मास अनुष्ठान की अवधि में ही वृक्षारोपण तथा भूमि समतलीकरण का कार्य प्रारम्भ कर दिया था । बाद में गीता जयन्ती के पावन पर्व पर आयोजित रा.का.क.म के अवसर पर श्री पथमेड़ा गोधाम से जुडे हुए गोभक्तों को अक्षय भूमि दान की अपील की गई। परिणाम स्वरूप 2010 तक सभी गोभकतों से कुल 2000 बीधा भूमि प्राप्त हुई । 500 बिधा भूमि वृक्षारोपण भी हो गया । इसी वर्ष पूज्य सन्तों की पावन प्रेरणा तथा सत्संकल्प से प्रेरित होकर श्री पथमेड़ा गोधाम की महासभाने 2011 के दीपावली के ज्योर्तिमय पर्व पर भारतीय गोकल्याण महामहोत्सव का ऐतिहासिक एवं अनुपम आयोजन इस भूमि पर करनें का निर्णय लिया गया । तथा पूज्य सन्तों की आज्ञा से इस सुरभ्य स्थान का नाम रखा श्री मनोरमा गोलकतीर्थ यहाँ पर अभिनव वृज के रुप में नन्दगांव बरसाणा, मधुपुरी, वृन्दावन, गोकुल आदि छ : गावों की स्थापना जिसमें श्रीसुरभी शक्तिपीठ, पंचगव्य, चिकित्सालय सहित गोसंवर्धन, पंचगव्य कृषि अनुसंधान, उपासना, शिक्षा संस्कार के निमित सेवा प्रक्लप प्रस्तावित है ।
         जिसमें 5000 वर्षों बाद सुरभि महायज्ञ तथा गोनवरात्री का अनुष्ठान पूर्णतया वेदादि शास्त्र विधि से सम्पन्न हुआ । साथ ही गोभागवत कथा, गोसेवा संगोष्ठियों का आयोजन भी अति वृहद रुप से सम्पादित हुआ था । वर्तमान में 1000 विधा भूमि पर वृक्षारोपण, गोशाला, घास उत्पादन, विधालय, अतिथिभवन, सन्त आवास, छात्रावास, ग्वाला निवास बन चुके है । शेष कार्य प्रगतिपर है ।

                                               श्री मनोरमा गोलक तीर्थ नंन्दगांव की प्रस्तावित विकास योजनाएँ

--  गोसंरक्षण एवं गोसंर्वधन पांच हजार गोवंश के लिए गोचिकित्सालय दस हजार गोवंश के लिए गो - आवास पंचगव्य चिकित्सालय एवं अनुसंधानशाला गोबर गैस आधारित विधृत निर्माण संयंत्र गोग्राम उधोग प्रशिक्षण केन्द्र गोरस परिष्कर शाला पर्यावरण संरक्षण एवं वृक्षारोपण "

-- जैविक खेती भूमि सुधार (समतलीकरण) सुरक्षा दीवार का निर्माण 250 ग्वाला निवास कामधेनु आवासीय विधालय सत्संग सभा मण्डप ग्रीन हाउस (जैविक सब्जियों हेतु) नर्सरी

No products matching your criteria have been found.

up
Shop is in view mode
View full version of the site
Ecommerce Software